चोदरी बाई की गांड. hindi sex story

chadri bai

उसकी आंखे बहुत नशीली थी। साथ ही वो चुदाइ के बारे बहुत ज्यादा नोलेज भी रखती थी। मुझे सुरु में शक भी हुआ की हो न हो ये और किसी से भी चुदा चुकी है। मैने तुरंत उससे पूछा की तुमने कभी किसी के साथ सेक्स किया है। पर वो मना करने लगी। मैने कहा चलो छोड़ो मुझे क्या करना है। उस लड़की को सेट किये मुझे 4-5 दिन ही हुए थे। में कुछ सोचने लगा उसने कहा तुम सोचते ही रहोगे की कुछ करो गे भी पर उस वक्त मेरे पास कोंडम नहीं था। इस कारन में उसकी चूत में नहीं डाल सकता था। मैने कहा अरे यार मेरे पास कोंडम नहीं है। तब उसने कहा की कोंडम की क्या जरुरत है। तुम बिना कोंडम के करो पर उस वक्त मेरी गांड फट रही थी। क्योकि में उस लड़की के बारे में ज्यादा नहीं जनता था। और हॉल फिलाल में मेरे एक दोस्त निखिल को एड्स हो चूका था। इस कारन मैने कहा की आज मुझे तुम्हारी गांड मारने का मन कर रहा है। तुम्हारी चूत और कभी चोदुंगा उसने कहा तुम्हारी मर्जी और मेरे लंड को अपने हाथ में लेकर हिलाने लगी। इधर में उसका बटला दबाने लगा। मैने कहा की उलटी लेट जाओ मुझे तुम्हारे गांड का मुआयना करने दो। उसने कहा ठीक है। और वो उलटी होकर लेट गई। में उसकी गोल गोल गांड को अपने हाथो से दबाने लगा और उसकी गांड में ऊँगली करने लगा। उसकी गांड बहुत ही ज्यादा टाइट थी। मैने कहा रुको तुम्हारी गांड में कुछ लगाना पड़ेगा। और में वेसलिंग का डिब्बा उठाया और उसमे से वेसलिंग निकाल कर उसकी गांड में लगाने लगा। और उसकी गांड में ऊँगली करने लगा। अब उसकी गांड में मेरा ऊँगली आराम से जा रहा था। इस कारन मैने अपना सुपाडा उसकी गांड में टिकाया और उसकी गांड में धीरे धीरे डालने लगा।

पर उसके मुह से कोई आवाज नहीं आरही थी। क्योकि लगता था की शायद वो पहले भी कई बार गांड मरवा चुकी है। पर मैने उन बातो में ध्यान न देते हुए उसकी गांड मारने में मग्न हो गया और आधे घंटे तक उसकी गांड मारता रहा। कभी खड़ी करके तो कभी कुतिया बना कर उसे भी अब मजा आने लगा था। उसने मेरे लंड को अपने गांड से निकाला और अपने मुह में लेकर चूसने लगी। मैने कहा और चुसो गले गले तक लो वो मेरे लंड को पूरा अपने मुह में भर लेती थी। और चूसने लगती थी उसने कहा की अगर तुम्हारा गिरने वाला होगा तो बता देना मैने कहा ठीक है यार तुम चुसना बंद मत करो चुस्ती रहो। तुम्हारे गांड से ज्यादा मजा तो तुम्हारे मुह में है वो मेरे लंड को लोलोपोप की तरह चूस रही थी। और में भी उसका निप्पल को अपने हाथ से मसल रहा था। आधे घंटे तक मेरा मुठ नहीं गिरा वो परेसान होने लगी मैने कहा बस जान थोड़ी देर और थोड़ी देर और करके में उसको चूसता रहा। और जब थोड़ी देर बाद मेरा मुठ गिरने वाला था तब मैने सोचा की बता दू की मेरा गिरने वाला है। पर मैने नहीं बतया और उसका पूरा मुह अपने मुठ से भर दिया। और कहा सॉरी यार अचानक से तुम्हारे मुह में गिर गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *